Tuesday, July 17, 2007

हिन्दी पॉडकास्टिंग का एक साल

८ जुलाई २००६ - हिन्दी में मेरा पहला पॉडकास्ट और तब से एक साल में ३२ पॉडकास्ट। इन्हें १३९३ बार सुना गया। अथार्त हर महीने दो से ज्यादा पॉडकास्ट - प्रतिदिन लगभग तीन बार सुना गया।

बहुत बड़ी तो उपलब्धि तो नहीं पर - यह देखते हुऐ कि यह पॉडकास्ट मुख्यतः पेटेंट और आज की दुर्गा की चिट्ठियों के हैं - कम भी नहीं कहे जा सकते। यह विषय न केवल गंभीर हैं, पर मुश्किल भी।

जैसे अरुणा जी का कहना है कि, पॉडकास्ट के जरिये हम उन लोगों तक पहुंच सकेते हैं जो देवनागरी पढ़ नहीं सकते पर समझ सकते हैं - पॉडकास्ट आने वाले समय में और महत्वपूर्ण होंगे और उनकी भूमिका बढ़ेगी।

देखते हैं यह साल पॉडकास्टिंग के लिये कैसा रहता है।


क्या रहे मेरे अनुभव, क्यों मैंने ogg फॉरमैट को छोड़ कर mp3 में पॉडकास्ट करना शुरू कर दिया - यह सब सुनने के चिन्ह ► तथा बन्द करने के लिये चिन्ह ।। पर चटका लगायें।

Get this widget | Share | Track details

19 comments:

  1. बहुत खूब। आपकी जानदार आवाज में इसे सुनना अच्छा लगा।

    ReplyDelete
  2. आपको बहुत बधाई. :)

    ReplyDelete
  3. बिल्कुल एक नया अनुभव मिला आपके पाँडकास्ट को सुनकर ..एक साल पूरा होने पर बधाई..उन्मुक्त भाई रेडियो को ख़त्म होने की कामना न करें हम सब..क्योंकि वैसे ही (खा़सकर विविध भारती और आकाशवाणी)वह बुरे दौर से गुज़र रहा है ..एफ़ एम के आ जाने के बाद में.रेडियो घर का बुज़ुर्ग रहा है उसे ज़िन्दगी से ख़ारिज करना वैसा ही होगा जैसे रिटायर्ड पिता से ये कहना कि अब आप कुछ काम नहीं करते इसलिये प्लीज़ आप वृध्दाश्रम में चलने के लिये तैयार हो जाईये (माफ़ करें रॆडियो के बारे में इस तरह भावुक हो जाने के लिये)पाँडकास्ट भी चलते रहें उन्हे भी क़ामयाबी मिलती रहे जैसे आपको मिलती जा रही है...हाँ चलते चलते... एक बिन मांगी सलाह : पाँडकास्ट मूलत: बोलने सुनने का माध्यम है इसलिये यदि इस क्षेत्र में लगातार काम करना चाहते हैं तो शब्दों के उच्चारण पर किसी जानकार की मदद और मशवरा ज़रूर लीजिये...शब्बेखै़र साँरी शब्बाखै़र !

    ReplyDelete
  4. सच कहूं..आजतक आपका एक भी पाडकास्ट नही सुना।
    लेकिन बधाई और मिठाई में तो शामिल हो ही सकते हैं :)
    बधाई...।

    ReplyDelete
  5. बधाई स्वीकारें।
    हमने बहुत चटकाया पर आपकी जानदार आवाज़ हम तक पहुंच न पाई। क्या करें मायूस है।

    ReplyDelete
  6. सालगिरह की ढेरों बधाईयाँ.

    ReplyDelete
  7. संजय बेंगाणी2:52 pm

    बधाई स्वीकारें.

    ReplyDelete
  8. उन्मुक्त जी,

    शायद यह आपसे मिली प्रेरणा ही है जिसकी बदौलत हमने हिन्द-युग्म का पॉडकास्ट बनाया जिसे अच्छी-खासी संख्या में सुना जा रहा है।

    ReplyDelete
  9. आनन्द आया आपकी आवाज में आपके एक वर्षीय पॉड कास्टिंग के अनुभव को सुनना और आंकडे जानना.

    आपको प्रथम वर्षगांठ पर बहुत बधाई और उज्जवल भविष्य की शुभकामनायें. :)

    ReplyDelete
  10. हिन्दी पॉडकास्टिंग में एक साल पूरा होने पर आपको हार्दिक बधाई। सच कहूं तो मैंभी आपका एक ही पॉडकास्ट सुन पाया हूँ। पर अब कोशिश करता हूँ कि पुराने सारे अंकों को सुनूं।
    वैसे अभी तक पॉडकास्ट शब्द ही चलन में है कोई हिन्दी शब्द भी सुझाईये। :)

    ReplyDelete
  11. मुबारक हो । संजय भाई पेशेवर ‘बोलकार’ हैं । मेरा गढ़ा शब्‍द है । मैं भी पेशेवर ‘बोलकार’ हूं । इसलिये हो सकता है कड़ी बात लगे, पर बड़े भाई साहब, मैं भी संजय भाई की बात से सहमत हूं । हृदय से बधाईयां तो ले ही लीजिये । आपकी बुलंद आवाज़ में सिलसिला जारी रहना चाहिये ।

    ReplyDelete
  12. संजय जी, यूनुस जी - मुझे आपकी बात कड़वी नहीं लगी पर अच्छा लगा कि किसी ने मेरे पॉडकास्ट को इतनी बारीकी से सुना और कोई गलती बतायी।
    मैं जिस वतावरण में पला हूं, रहता हूं वहां कोई उर्दू नहीं बोलता है। मेरे मुसलमान मित्र भी अंग्रेजी या फिर हिन्दी में बात करना पसन्द करते हैं। उर्दू बहुत मीठी भाषा है। अब सुनने को नहीं मिलती - कम से कम जिन लोगों के बीच मैं रहता हूं। इसीलिये कोशिश करता हूं कि उसके शब्द भी रखूं पर उच्चारण तो सही होना चाहिये। आगे से ध्यान रखूंगा।
    मेरे पास जदीद उर्दू हिन्दी कोश (लुग़त) है जो भुवन वाणी ट्रस्ट के द्वारा प्रकाशित है। आप लोगों की टिप्पणी के बाद मैंने इसे देखा इसमें न तो शब्बेख़ैर है, न ही शब्बाख़ैर है। इसके मुताबिक सही शब्द शबबख़ैर है। यह तो और उलझन की बात हो गयी। मुझे तो लगता है आगे से हिन्दी या फिर अंग्रेजी ही प्रयोग करूं। उर्दू मेरे बस की नहीं :-)
    रतना जी मुझे दुख हुआ कि आप मेरी आवाज तक नहीं पहुंच पायी। हो सकता है कि आपका इंटरनेट ठीक से न काम कर पा रहा हो।

    ReplyDelete
  13. वर्षगाँठ की बधाई।


    रही शुभ-रात्रि की बात तो शायद उर्दू में इसे शब-ब-खैर कहते हों। शब (रात्रि) खैरियत(सकुशल) हो ।

    ReplyDelete
  14. पहली वर्षगांठ पर हार्दिक बधाई। हमेशा तो नही पर कभी-कभी हम सुनते है।

    ReplyDelete
  15. bahut bahut badhaii ho varshgaanth ki :)
    suna aur bahut accha laga
    Shukriya

    ReplyDelete
  16. मुबारक हो जनाब हिंदी को लेकर आगे बदते रहने के लिए ,लगातार बेहतर पोस्ट देने के लिए ....... 1 वर्ष पूरा करने की बहुत बहुत मुबारक बाद.........

    ReplyDelete
  17. मुबारक हो जनाब हिंदी को लेकर आगे बदते रहने के लिए ,लगातार बेहतर पोस्ट देने के लिए ....... 1 वर्ष पूरा करने की बहुत बहुत मुबारक बाद..........

    ReplyDelete

आपके विचारों का स्वागत है।