Tuesday, July 22, 2014

पर्यावरण एवं वन्य जीवों पर अधिनियम

इस चिट्ठी में, संसद के द्वारा पर्यावरण, प्रदूषण तथा वन, वन्य जीवों एवं जैव विविधता पर बनाये गये अधिनियमों की चर्चा है।


पर्यावरण एवं प्रदूषण पर अधिनियम
पर्यावरण एवं प्रदूषण रोकने के लिये व्यवस्थापिका ने कई अधिनियम भी लागू किए हैं। इनमें मुख्य निम्न हैः

  1. जल (प्रदूषण निवारण एवं नियंत्रण) अधिनियम, १९७४ {The Water (Prevention and Control of Pollution) Act, 1974}  (१९७४-अधिनियम);
  2. जल (प्रदूषण निवारण एवं नियंत्रण) उपकर अधिनियम, १९७७ {The Water (Prevention and Control of Pollution) Act, 1977} (१९७७-अधिनियम);
  3. वायु (प्रदूषण निवारण एवं नियंत्रण) अधिनियम, १९८१ {The Air (Prevention and Control of Pollution) Act, 1981} (१९८१-अधिनियम);       
  4. पर्यावरण (संरक्षण) अधिनियम, १९८६ {The Environment (Protection) Act, 1986} (१९८६-अधिनियम);
  5. लोक दायित्व बीमा अधिनियम, १९९१ {The Public Liability     Insurance Act, 1991} (१९९१-अधिनियम);
  6. नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल अधिनियम, २०१० {The National Green Tribunal Act, 2010} (२०१०-अधिनियम)।

वन, वन्य जीवों एवं जैव विविधता पर अधिनियम

वनों वन्य जीवों एवं जैव विविधता के संरक्षण हेतु बहुत से अधिनियम हैं। उनमें से महत्वपूर्ण निम्नानुसार हैं :

  1. वन्य जीव संरक्षण अधिनियम, १९७२ (The Wildlife Protection Act  1972) (१९७२-अधिनियम);
  2. वन संरक्षण अधिनियम १९८० (The Forest Conservation Act 1980) (१९८०-अधिनियम);
  3. जैव विविधता अधिनियम २००२ (The Biological Diversity Act 2002) (२००२-अधिनियम)।

उपरोक्त अधिनियम अलग-अलग हैं, पर एक तरीके से एक-दूसरे से जुड़े हुए हैं। ये इनके अन्तर्गत बनाए गए नियमों के साथ, हमारे देश में वैधानिक पर्यावरण न्यायशास्त्र की रचना करते हैं।


उन्मुक्त की पुस्तकों के बारे में यहां पढ़ें। 

हरित पथ ही राजपथ है     
भूमिका।। विश्व पर्यावरण दिवस ५ जून को क्यों मनाया जाता है।। टिकाऊ विकास और जनहित याचिकाएं क्या होती हैं।। एहतियाती सिद्घांत की मुख्य बातें क्या होती हैं - वेल्लौर केस।। नुकसान की भरपाई, प्रदूषक पर - एन्वायरो एक्शन केस।। राज्य प्राकृतिक संसाधनों का संरक्षणकर्ता है।। वन, वृक्ष, और जैव विविधता का संरक्षण - आवश्यक।। जोखिम गतिविधि - पीड़ित मुआवजा का अधिकारी।। पर्यावरण, न्यायालय और सिद्धान्त।। पर्यावरण एवं वन्य जीवों पर अधिनियम।।

About this post in Hindi-Roman and English
This post, in Hindi (Devanagari script) talks about the laws enacted by the Parliament to save environment, and wild life. You can read it in Roman script or any other Indian regional script as well – see the right hand widget for converting it in the other script. 

hindi (devnaagree) kee is chitthi mein, sansad ke dvara paryavran evam vnya jivan ko bachane ke liye banaye gaye adiniyamon kee charchaa hai. ise aap roman ya kisee aur bhaarateey lipi me padh sakate hain. isake liye daahine taraf, oopar ke widget ko dekhen.
 

2 comments:

  1. आपकी इस पोस्ट को ब्लॉग बुलेटिन की आज कि बुलेटिन राष्ट्रीय झण्डा अंगीकरण दिवस, मुकेश और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    ReplyDelete
  2. इन पर विस्तृत चर्चा होनी चाहिए
    मेरी रूचि वन्य जीव अधिनियम में है

    ReplyDelete

आपके विचारों का स्वागत है।