Friday, May 11, 2007

Love means not ever having to say you're sorry

इस चिट्ठी में एक खास प्रेम कहानी के बारे में, और इसी सन्दर्भ में सबसे ज्यादा उद्धरित पंक्ति के बारे में चर्चा करने की बात हुई थी। वह यह रही।

एक अभिनेता की पत्नी की तबियत ठीक नहीं रहती थी। पत्नी के डाक्टर ने अभिनेता से मिलने की इच्छा जाहिर की। जब अभिनेता, डाक्टर से मिला तो उसने बताया कि उसकी पत्नी को कैंसर है और छ: महीने के अन्दर ही उसकी मृत्यु हो जायेगी। अभिनेता ने अपने काम से छुट्टी ली और वह अपनी पत्नी से यह बिना बताये कि उसकी मृत्यु होने वाली है, उन जगहों पर ले गया जहाँ उसकी पत्नी हमेशा जाना चाहती थी। उसकी पत्नी की मृत्यु ६ महीने के अन्दर ही हो गयी। इसके बाद यह सवाल उठा कि कौन अच्छा अभिनेता था: वह पति जिसने अपनी पत्नी के साथ आखिरी छ: महीने उस की पसन्द की जगह, उसे बिना यह बताये गुजारे कि उसकी ज्लद ही मृत्यु होने वाली है या फिर वह पत्नी, जो यह जानते हुए कि वह छ: महीने बाद नहीं रहेगी सारी जगह गयी और अपने पति को नहीं मालुम होने दिया कि उसे अपनी मृत्यु के बारे में मालुम है। यह मेरी प्रिय प्रेम कहानियों में से एक है।

इस कहानी को एक दूसरे रूप में, एरिक सीगल ने Love Story नामक पुस्तक में लिखा है। यह पुस्तक १९७० में छपी थी। यह ऑलिवर बैरेट और जेनी कैविलरी की प्रेम कहानी है। ऑलिवर अमीर, बहुत अच्छा खिलाड़ी, और हावर्ड में पढ़ता था। जैनी गरीब, संगीत से प्रेम रखने वाली, और रेडक्लिफ में पढ़ती थी।

यह कहानी कुछ इस तरह से शुरू होती है।
'What can you say about a twenty-five-year-old girl who died ?
That she was beautiful. And brilliant. That she loved Mozart and Bach. And the Beatles. And me. Once, when she specifically lumped me with those musical types, I asked her what the order was, and she replied, smiling, “Alphabetical.” At the time I smiled too. But now I sit and wonder whether she was listing me by my first name-- in which case I would trail Mozart - or by my last name, in which case I would edge in there between Bach and the Beatles. Either way I don't come first, which for some stupid reason bothers hell out of me, having grown up with the notion that I always had to be number one. Family heritage, don't you know?'
जेनी की भी मृत्यु ६ महीने के अन्दर कैंसर से हो जाती है। इस पुस्तक का अन्त इस प्रकार होता है कि ऑलिवर का पिता जब अस्पताल में पहुंचता है तो जेनी की मृत्यु हो चुकी होती है।
'“Oliver,” said my father urgently, “I want to help.” “Jenny's dead,” I told him. “I'm sorry,” I told him. “I'm sorry,” he said in a stunned whisper.
Not knowing why, I repeated what I had long ago learned from the beautiful girl now dead.
“Love means not ever having to say you're sorry.”'
And then I did what I had never done in his presence, much less in his arms. I cried.'
इस कहानी के दूसरी अन्तिम पंक्ति प्यार का एक अर्थ बताती है जो कि इस चिट्ठी का शीर्षक है। मेरे विचार में यह पंक्ति प्यार के संदर्भ में सबसे ज्यादा उद्धरित पंक्ति है। इस कहानी पर, इसी नाम से एक पिक्चर भी बनी है जिसे ऑर्थर हिलर ने निर्देशित किया है और मुख्य भूमिका रायन ओ'नील एवं एली मैक्ग्रॉ ने निभायी है यह पंक्ति पिक्चरों के डायलॉगो में, दस सबसे लोकप्रिय डायलॉग में एक है।

यह पुस्तक उस समय प्रकाशित हुई जब मैं विश्वविद्यालय में पढ़ता था। विश्वविद्यालय के जीवन में लड़कियां भी साथ पढ़ती थीं। वह उम्र ही अलग थी और वह समय भी। किशोरावस्था में पैर रखते समय, लड़कियों का साथ पढ़ना, अलग अनुभूति ही था। उसमें से एक के बारे में मैंने उर्मिला की कहानी में बताया है। यह पुस्तक तथा उस पर बनी पिक्चर मुझे बहुत पसन्द आयी। यह पुस्तक पढ़ने और पिक्चर देखने योग्य है। मैंने यह पुस्तक भी बहुतों को उपहार में दी। इस चिट्ठी को लिखने से पहले मैंने इसे फिर पढ़ा। मुझे यह उतनी अच्छी लगी जितनी कि ३५ साल पहले लगी थी। यदि आपने नहीं पढ़ी हो तो जरूर पढ़ कर देखिये।

अगली बार, एक ऐसे रिश्ते की बात करेंगे जो कि रिश्तों में सबसे पवित्र है और जिसका प्यार सबसे सच्चा - यानि मां के बारे में।

भूमिका।। Our sweetest songs are those that tell of saddest thought।। कोई लौटा दे मेरे बीते हुए दिन, बीते हुए दिन वो मेरे प्यारे पल छिन।। Love means not ever having to say you're सॉरी

सांकेतिक शब्द
book, book, books, Books, books, book review, book review, book review, Hindi, kitaab, pustak, Review, Reviews, किताबखाना, किताबखाना, किताबनामा, किताबमाला, किताब कोना, किताबी कोना, किताबी दुनिया, किताबें, किताबें, पुस्तक, पुस्तक चर्चा, पुस्तकमाला, पुस्तक समीक्षा, समीक्षा,

13 comments:

  1. यह पुस्तक व फिल्म दोनों ही याद हैं । मैंने भी महाविद्यालय के दिनों में पढ़ी थी । उस समय का पढ़ा देखा जो प्रभाव डालता है बाद का देखा नहीं डाल सकता ।
    उन्मुक्त जी, आपने एक बार एक चिट्ठे में व्यक्ति शब्द की बात की थी , उस समय मुझे कुछ कुछ इस शब्द पर आधारित अपनी एक कविता 'क्षमा करना माँ 'याद आई थी । तब मैं यहाँ नई थी व उस कविता को पोस्ट करना नहीं चाहती थी । अब कर दी है । हो सके तो मेरे चिट्ठे http:www.ghughutibasuti.blogspot.com पर जाकर पढ़िये । शायद कुछ प्रासांगिक लगे ।
    धन्यवाद ।
    घुघूती बासूती

    ReplyDelete
  2. "love means not ever having to say you are sorry"

    this is very true unmukht ji,

    true love makes u stand with head held high forever.

    बहुत अच्छी लग रही हैं यह कडियाँ.........

    ReplyDelete
  3. उन्मुक्त जी, इस पुस्तक का उल्लेख और विवेचना करने के लिये धन्यवाद। मुझे भी इसे पढ़ने का अवसर मिला था। इसका कथानक और भाषा दोनों ही श्रेष्ठ हैं। इसमें एक बात और भी जो मुझे अच्छी लगी थी, वह थी ओलिवर और उसके पिता के सम्बन्धों का प्रस्तुतिकरण, जो प्रत्यक्ष में कठोर, हठी पर परोक्ष में दयालु थे। इस बात का आभास ओलिवर को भी बहुत बाद में हुआ। (यदि मुझे ठीक याद है तो - आपने तो हाल ही में पुन: पढ़ा है, सो आप इस पक्ष पर बेहतर प्रकाश डाल सकते हैं) कदाचित किसी प्रकार की सहायता के लिये भी एक बार ओलिवर ने अपने पिता से भेंट करी थी।

    ReplyDelete
  4. राजीव जी, आपकी यादाश्त सही है।

    ReplyDelete
  5. एक बात और भी, जो पहली टिप्पणी में रह गयी थी कि इस उपन्यास के बाद लेखक ने ऑलिवर्स स्टोरी नाम से अन्य उपन्यास इसी कथानक-क्रम में लिखा था, वह भी ठीक था पर उसका प्रभाव मूल उपन्यास से कुछ कम लगा था मुझे। यद्यपि इन दोनों को ही अपनी चुनिंदा पुस्तकों में मैंने अपनी पोस्ट प्रश्नव्यूह - चिट्ठे, फिल्में, पुस्तकें और वरदान में उल्लिखित किया था, वह भी आपके प्रश्नों के उत्तर में ही ;)

    ReplyDelete
  6. बहुत अच्छा लगा इस पोस्ट को पढ़ना! ओ हेनरी की कहानी आखिरी पत्ती भी याद आयी जिसमें कलाकार अपने जीवन की सर्वोत्तम कृति बनाता है और मर जाता है। उसे देखकर बीमार लड़की जी जाती है!

    ReplyDelete
  7. बिल्कुल सही पंक्तियाँ है “Love means not ever having to say you're sorry.”'

    ReplyDelete
  8. rachana6:50 pm

    बडा अच्छा परिचय दिया आपने पुस्तक का...आप जिस पुस्तक का भी जिक्र करते है, 'must read' किस्म की होती हैं..पढूँगी.

    ReplyDelete
  9. "विश्वविद्यालय के जीवन में लड़कियां भी साथ पढ़ती थीं। वह उम्र ही अलग थी और वह समय भी। किशोरावस्था में पैर रखते समय, लड़कियों का साथ पढ़ना, अलग अनुभूति ही था।"

    अमां उन्मुक्त भईया कुछ इस बारे में डिटेल से बताइए न क्या हमेशा वो पेंटेंट, कानून या फिर अजीबोगरीब विषयों पर लिखते रहते हो। कुछ हमारे इंटरैस्ट का भी सुनाइए न। :)

    ReplyDelete
  10. उन्मुकत जी,
    जेनी और ओलीवेर की इस नोक झोंक भरी प्रेम कहानी को कालेज के ज़माने में, कितनी बार पड़ा ,कितनी बार उमीड़ बाँधी की जेनी बच जाए और किताब पड़ने के बाद कितना रोई,अब याद नही...पर वो प्यार को खोने का दर्द, वो ओलीवेर का कहना" प्यार का मतलब है कभी माफ़ी नही माँगना" ज़िंदगी में बहुत बार परखा और परख में सर्वोत्तम पाया...

    मेरी सर्व पसंदीदा किताब रही है " लव स्टोरी"...
    शुक्रिया, एक बार फिर यादों को वापस लाने के लिए

    ReplyDelete
  11. mere blog pe aane ke liye shukriya...apke blog ki bahut si posts bhi padhi...umr ke sath anubhavon ka spectrum bhi kaafi vistrit hota jaata hai...ye baat apke blog mein spasht dikhti hai.
    maine love story padhi hai aur mujhe bhi kaafi acchi lagi...kuch vakya aur kuch wakaye samay ke bandhanon se pare hote hain...hamesha unki khushbu barkarar rahti hai...waise bhi pyaar to sadabahar hota hai...hai na :-)

    ReplyDelete
  12. शुक्रिया सर, देखिये आपने ये पोस्ट तब लिखी थी जब मैं ब्लौगिंग में आया भी नहीं था।

    वैसे लव-स्टोरी एक प्रेम-कहानी के अलावा एक पिता-पुत्र के रिशे वाली भी कहानी थी जैसा कि ऊपर राजीव जी ने भी कहा।

    ReplyDelete
  13. Shweta4:59 pm

    Nice meaning of love ......Love has several meanings ........different people get different meaning that depends on how love comes to them .......in my life its meaning is " Love means not ever having to say that I miss you ."

    ReplyDelete

आपके विचारों का स्वागत है।