Saturday, November 30, 2013

हरित पथ ही राजपथ है - भूमिका

इस नयी श्रंखला में, न्यायालयों  एवं संसद के द्वारा पर्यावरण एवं प्रदूषण को दूर करने के लिये उठाये गये कदम और बनाये गये कानून की चर्चा है।
इसमें यह भी चर्चा है कि इसके लिये हम व्यक्तिगत स्तर पर क्या कर सकते हैं।

कुछ साल पहले हम कश्मीर गये थे। वहां श्रीनगर में, मेरी मुलाकात फिनलैण्ड से आयी दन्त चिकित्सक हेलगा कैटरीना से हुई।  

हेलगा कैटरीना को भारत अच्छा लगता है वह तीसरी बार यहां आयी थी। वे तलाकशुदा हैं और उनका एक लड़का और एक लड़की है पर वे भारत नहीं आये। उन्हें यहां की गंदगी, प्रदूषण से घबराहट होती है (देखें लेख 'पृथ्वी पर स्वर्ग-कश्मीर' यात्रा)। 

यदि हम चाहते हैं कि लोग हमारे देश आयें तो जरूरी है कि हम गन्दगी को दूर रखें; प्रदूषण न हो; और पर्यावरण अच्छा रहे।  यह केवल इसलिये जरूरी नहीं है कि हमारे यहां पर्यटक आयें पर इसलिये भी कि हमारे आने वाले पीढ़ियों का भविष्य सुनहरा रहे। 

गन्दगी न हो, प्रदूषण न हो, और पर्यावरण अच्छा रहे इसके लिये हरियाली का रास्ता ही सबसे अच्छा है। हरित पथ ही, उचित है। आइये देखें कि इस पथ पर चलने के लिये,

  • न्यायालयों ने किस तरह के फैसले दिये,
  • संसद ने कैसे कानून बनाये, और 
  • इसके लिये, हम व्यक्तिगत स्तर पर क्या कर सकते हैं।
इन बातों पर चर्चा करने से पहले, कुछ चर्चा जनहित याचिकाएं और टिकाऊ विकास पर - यह इस श्रंखला की अगली कड़ी में।  

हरित पथ ही राजपथ है
भूमिका।।

About this post in Hindi-Roman and English
This post, in Hindi (Devanagari script), is introduction to a new series about 'Environment Protection': what has done by the courts and Parliament in this regard and what can we do.  You can read it in Roman script or any other Indian regional script as well – see the right hand widget for converting it in the other script. 

hindi (devnaagree) kee is chitthi mein charchaa hai ki prayavarn ko surakchhit karne ke liye, nayyalayon ne kaise phasle diye; sansad ne kaise kanoon banaye; aur is liye hum kya ker sakte hain. ise aap roman ya kisee aur bhaarateey lipi me padh sakate hain. isake liye daahine taraf, oopar ke widget ko dekhen.

5 comments:

  1. रोचक और जानकारीपूर्ण होगी यह श्रृंखला

    ReplyDelete
  2. मेरे ख्याल से साइकल का इस्तेमाल दुबारा शुरू कर देना चाहिए.

    ReplyDelete
  3. shweta3:40 p.m.

    Thanks for starting this much awaited series on environmental issues . Looking forward to it .

    ReplyDelete
  4. हम उत्सुकता से इस राजपथ में आपके पीछे पीछे चल रहे हैं।

    ReplyDelete
  5. अब एक नयी क्रांति की जरुरत है पर्यावरण क्रांति की ।

    ReplyDelete

आपके विचारों का स्वागत है।