Tuesday, August 12, 2014

जनसंख्या पर नियंत्रण और सुनहरा नियम

इस चिट्ठी में जनसंख्या पर नियंत्रण, इसे कम करना और सुनहरे नियम के बारे में चर्चा है।

हम दिन दूने रात चौगने हो रहे हैं यह हमारे विकास को नगण्य कर दे रहा है।यह महत्वपूर्ण है, हम पर्यावरणीय समस्याओं को तब तक हल नहीं कर सकते, जब तक हम जनसंख्या को नियंत्रित एवं सीमित नहीं कर लेते हैं। यदि हमने अपनी जनसंख्या को कंट्रोल नहीं किया तो हमारी अपनी वाली पीढ़ी का भविष्य अंधकारमय है। पुराने समय में आशीर्वाद था 'फूलो फलो, दूधो नहाओ' आज यह आशीर्वाद अभिशाप है। जरूरत है कि हम एक बच्चे का परिवार रखें। 

जनसंख्या को कम करने के लिए जरूरी है कि हम निम्न नीतियों को अंगीकार एवं प्रोत्साहित करें।
  1. महिलाओं की शिक्षा में वृद्घि;
  2. महिला सशक्तिकरण;
  3. मूलभूत स्वास्थ्य एवं चिकित्सा सेवाओं में वृद्घि;
  4. एक बच्चे वाले परिवार को प्रोत्साहित किया जाना चाहिये1 और एक से अधिक बच्चे वाले परिवार को हतोत्साहित किया जाना चाहिए।


सुनहरा नियम
पर्यावरण विधियों की विवेचना हेतु, एक नियम सुनहरा है। यह पर्यावरण विधिशास्त्र को एक सूत्र में बांधता है यह है;
'पृथ्वी मां हमें अपने पूर्वजों से नहीं मिली है। यह हमारे पास, हमारे बच्चों की धरोधर है'
हमारे बच्चे हमारे लिये सबसे महत्वपूर्ण हैं। वे हमारे भविष्य हैं। यह जिम्मेदारी हम पर है कि उनका कल सुरक्षित रहे, यदि हम इस सुनहरे नियम को याद रखते हैं और किसी काम को करने में, इसका पालन करते हैं, तब शक नहीं कि हमारा भविष्य उज्जवल होगा, क्योंकि  हरित पथ ही, उज्जवल भविष्य का रास्ता है, यही राज पथ है।

उन्मुक्त की पुस्तकों के बारे में यहां पढ़ें।

हरित पथ ही राजपथ है        
भूमिका।। विश्व पर्यावरण दिवस ५ जून को क्यों मनाया जाता है।। टिकाऊ विकास और जनहित याचिकाएं क्या होती हैं।। एहतियाती सिद्घांत की मुख्य बातें क्या होती हैं - वेल्लौर केस।। नुकसान की भरपाई, प्रदूषक पर - एन्वायरो एक्शन केस।। राज्य प्राकृतिक संसाधनों का संरक्षणकर्ता है।। वन, वृक्ष, और जैव विविधता का संरक्षण - आवश्यक।। जोखिम गतिविधि - पीड़ित मुआवजा का अधिकारी।। पर्यावरण, न्यायालय और सिद्धान्त।। पर्यावरण एवं वन्य जीवों पर अधिनियम।। पर्यावरण, प्रदूषण, वन, वन्य जीवों एवं जैव विविधता - अधिनियम एवं समबन्ध।। पर्यावरण एवं प्रदूषण - भूले हुए उपचार।। अच्छे पर्यावरणविद होने के लिये आवश्यक कदम।। अपने देश में पुनरावर्तन कार्यक्रम।। जनसंख्या पर नियंत्रण और सुनहरा नियम।। 


About this post in Hindi-Roman and English
This post, in Hindi (Devanagari script) talks about reducing population, controlling population and golden principle.  You can read it in Roman script or any other Indian regional script as well – see the right hand widget for converting it in the other script. 

hindi (devnaagree) kee is chitthi mein, jansankhaya ko km krna, us pr niyantran karna, aur sunehare niyam kee charchaa hai.  ise aap roman ya kisee aur bhaarateey lipi me padh sakate hain. isake liye daahine taraf, oopar ke widget ko dekhen.

3 comments:

  1. Anonymous4:02 p.m.

    good post.

    ReplyDelete
  2. पर्यावरण प्रदूषण के लिए हद तक अधिक जनसंख्या ही जिम्मेदार है। आपकी बात सही है कि जनसंख्या को नियंत्रित करने पर ही पर्यावरण प्रदूषण की समस्या दूर की जा सकती है। एक बच्चे के परिवार की अवधारणा इसके बेहतर हल के तौर पर अपनाई जा सकती है। हमने भी इस पर अमल किया है और एक बेटे से ही खुश हैं, अब वह 10 साल का है।

    ReplyDelete
  3. 'पृथ्वी मां हमें अपने पूर्वजों से नहीं मिली है। यह हमारे पास, हमारे बच्चों की धरोधर है'
    बहुत विचारपूर्ण और प्यारी बात

    ReplyDelete

आपके विचारों का स्वागत है।