Monday, June 11, 2007

जन्नत कहीं है तो वह यहीं है, यहीं है, यहीं है

कहते हैं कि जहांगीर जब सबसे पहली बार कश्मीर पहुंचा, तो कहा,
'जन्नत कहीं है तो वह यहीं है, यहीं है, यहीं है।'

मैं १९७५ की जून में कश्मीर गया था। मुन्ने की मां कभी नहीं गयी। हम लोगों ने कई बार कश्मीर जाने का प्रोग्राम बनाया पर बस जा न सके। हमारे सारे दायित्व समाप्त हैं। इसलिये मन पक्का कर, इस गर्मी में हम लोगो कश्मीर के लिये चल दिये।

डल झील पर सूर्यास्त

दिल्ली से श्रीनगर के लिये हवाई जहाज पकड़ा। रास्ते में भोजन मिला। प्लेट में एक प्याला भी था पर चाय नहीं मिली पर जब प्लेट वापस जाने लगी। तो मैने परिचायिका से पूछा कि यदि काफी या चाय नहीं देनी थी तो प्लेट में कप क्यों रखा था। वह मुस्कराई और बोली,
'आज फ्लाईट में बहुत भीड़ है। यह केवल एक घन्टे की है इतनी देर में सबको चाय या कौफी दे कर सर्विस समाप्त करना मुश्किल था। इसलिये नहीं दी, पर लौटते समय जरूर मिलेगी।'
परिचायिका का मुख्य काम तो अच्छी तरह से बात करना होता है। लौटती समय कौन मिलता है।

हवाई जहाज से उतरते ही टैक्सी पकड़कर हम पहलगांव के लिए चल दिये। उसके बारे में अगली बार।

10 comments:

  1. दूसरी या तीसरी कक्षा मे कश्मीर के बारे मे पढा़ था, याद ताजा हो आयी, किताब मे शायद पहलगाम लिखा था।
    कहीं वो पुरानी किताब मिले तो उसमे छपी तस्वीरें देखने की इच्छा है।

    ReplyDelete
  2. भाई सूर्यास्त का चित्र सुन्दर लगा

    ReplyDelete
  3. उसी किताब से:-

    जहाँगीर ने कहा था

    گر فِردؤس برُویے زمین اَست، ہمین اَستو، ہمین اَستو ہمین اَست

    गर फ़िरदौस बरूये ज़मीं अस्त, हमीं अस्तो, हमीं अस्तो हमीं अस्त।

    ReplyDelete
  4. कश्मीर घूम आने की बधाई. अब इन्तजार रहेगा यात्रा वृतांत सुनने का. :)

    ReplyDelete
  5. आगे की कहानी का इंतजार रहेगा... फ़ोटो सहित.

    ReplyDelete
  6. ये बतायें कि लौटते में चाय मिली कि नहीं।

    ReplyDelete
  7. सुंदर चित्र, अगली किश्त की प्रतीक्षा है।

    ReplyDelete
  8. अगले कड़ी की प्रतीक्षा।

    ReplyDelete
  9. मिश्र जी, जहांगीर ने वही कहा था जो आपने लिखा है। यह बहुत कठिन है इसलिये मैंने उसका आसान रूप लिखा है।
    रास्ते में मील के पत्थर और बोर्डों पर पहलगांव लिखा था वहां पर सब लोग इसे पहलगांव ही कह रहे थे इसलिये यह शब्द प्रयोग किया।
    अनूप जी लौटते समय चाय मिली।

    ReplyDelete

आपके विचारों का स्वागत है।