Monday, February 11, 2008

की वर्ड और मॅटा टैग विवाद क्या होता है

आज चर्चा का विषय है: 'की-वर्ड और मॅटा टैग विवाद'। इसे आप सुन भी सकते है। सुनने के लिये चिन्ह पर चटका लगायें। यह ऑडियो फाइल ogg फॉरमैट में है। इस फॉरमैट की फाईलों को आप,
  • Windows पर कम से कम Audacity, MPlayer, VLC media player, एवं Winamp में;
  • Mac-OX पर कम से कम Audacity, Mplayer एवं VLC में; और
  • Linux पर सभी प्रोग्रामो में,
सुन सकते हैं। ऑडियो फाइल पर चटका लगायें फिर या तो डाउनलोड कर ऊपर बताये प्रोग्राम में सुने या इन प्रोग्रामों मे से किसी एक को अपने कंप्यूटर में डिफॉल्ट में कर ले। डाउनलोड करने के लिये पेज पर पहुंच कर जहां Download फिर अंग्रेजी में फाइल का नाम लिखा है, वहां चटका लगायें।
इसके पहली की कड़ियां 'समान डोमेन नाम विवाद नीति, साइबर और टाइपो स्कवैटिंग' को सुनने के लिये चिन्ह पर चटका लगायें।

की-वर्ड (Key word) विवाद
कोई भी सूचना प्राप्त करने के लिये सर्च इंजिन पर शब्द लिखकर उसे ढूढ़ा जाता है। किसी शब्द पर ढूढ़ने पर, लाखों से ज्यादा वेब-पन्नों की सूचना मिलती है। सारे पन्नों को देख पाना नामुमकिन है। लोग अक्सर पहले के ही कुछ पन्नों की ही लिंक देखते हैं। इसलिये महत्वपूर्ण यह है कि पहले पन्ने पर किस-किस वेब-पन्नों की सूचना है। सर्च इंजिन अक्सर कुछ खास शब्दों को अलग-अलग कम्पनियों को बेच देते है ताकि उन शब्दों पर ढूढ़ने पर उस कम्पनी की वेबसाइट सबसे ऊपर आ जाये। यदि वह शब्द किसी और का ट्रेड मार्क हो तो क्या सर्च इंजिन किसी दूसरे को वह शब्द बेच सकते हैं। इस बारे में कानून स्पष्ट नहीं है। आने वाले समय पर यह शायद स्पष्ट हो सके।

मॅटा टैग (Meta tag) विवाद
टैग किसी व्यक्ति या वस्तु के बारे में सूचना देते हैं। उदाहरणार्थ, सम्मेलनों में या कुछ सेवाओं (डाक्टर या सेना) में लोग, नाम का टैग लगाते हैं। दूकानों में वस्तुओं पर उनके मूल्य का टैग लगा होता है। अलग-अलग वेब साइट पर अलग तरह की सूचना होती है। मॅटा टैग, वेब साइट में सूचना के बारे में, सूचना देते हैं। सवाल यह भी उठता है कि क्या आप किसी और के ट्रेड नाम का प्रयोग अपने वेब साइट में मॅटा टैग की तरह कर सकते हैं। इसके बारे में भी कानून स्पष्ट नहीं है। आने वाला समय इसे स्पष्ट करेगा।

अगली बार चर्चा का विषय रहेगा - समकक्ष कंप्यूटर के बीच फाइल शेयरिंग

अंतरजाल की मायानगरी में
टिम बरनर्स् ली।। इंटरनेट क्या होता है।। वेब क्या होता है।। लिकिंग, क्या यह गलत है।। चित्र जोड़ना - यह ठीक नहीं।। फ्रेमिंग भी ठीक नहीं।। बैंडविड्थ की चोरी - क्या यह गैर कानूनी है।। बैंडविड्थ की चोरी - कब गैरकानूनी है।। डोमेन नाम विवाद क्या होता है।। समान डोमेन नाम विवाद नीति, साइबर और टाइपो स्कवैटिंग।। की वर्ड और मॅटा टैग विवाद।। समकक्ष कंप्यूटर के बीच फाइल शेयरिंग

इस पोस्ट पर की-वर्ड और मॅटा टैग विवाद के बारे में चर्चा है। यह हिन्दी (देवनागरी लिपि) में है। इसे आप रोमन या किसी और भारतीय लिपि में पढ़ सकते हैं। इसके लिये दाहिने तरफ ऊपर के विज़िट को देखें।

is post pr 'key word aur meta tag vivaad' ke bare men charcha hai. yah hindee {devanaagaree script (lipi)} me hai. ise aap roman ya kisee aur bhaarateey lipi me padh sakate hain. isake liye daahine taraf, oopar ke widget ko dekhen.

This post talks about what is 'Key-word and Meta tag dispute'. It is in Hindi (Devnaagaree script). You can read it in Roman script or any other Indian regional script also – see the right hand widget for converting it in the other script.



सांकेतिक चिन्ह
ipr, law, law, Law, legal, कानून,
information , Information Technology, information technology, Intellectual property, Internet, Internet, Podcast, Podcast, software, technology, Technology, technology, technology, Web, आईटी, अन्तर्जाल, इंटरनेट, इंटरनेट, ऑडियो टेक्नॉलोजी, टैक्नोलोजी, तकनीक, तकनीक, तकनीक, पॉड-वॉडकास्ट, पॉडकास्ट, पोडकास्ट , सूचना प्रद्योगिकी, सॉफ्टवेयर, सॉफ्टवेर,

3 comments:

  1. उन्मुक्त जी, आपने जिस आडियो का लिंक दिया है वह डोमेन नेम डिस्प्यूट रिज़ोल्यूशन, साइबर स्कवैटिंग और टाइपो स्कवैटिंग पर है न कि कीवर्ड-मेटा टैग डिस्प्यूट पर।

    दूसरे, इस ऑडियो फाइल को सुनने के लिए ईस्निप्स पर लॉगिन करना पड़ता है। एक सुझाव है, कृपया ऐसी जगह अपनी फाइल होस्ट कीजिए जहाँ ये लॉगिन वगैरह न करना पड़े सुनने के लिए। इससे नए श्रोताओं को दिक्कत नहीं होगी। :)

    इस पोस्ट को अपनी ग्लोबल वायसिस की पोस्ट में डाल रहा था पर चूंकि अभी इसमें त्रुटि है तो इसलिए नहीं डाल रहा, अगली बार कुछ रुचिकर हुआ तो अवश्य डालूँगा। :)

    ReplyDelete
  2. अमित जी,
    इस चिट्ठी में सुनने के दो लिंक हैं जिसे प्ले करने वाले चिन्ह ► पर चटका लगा कर सुना जा सकता है। पहली बार जहां ► चिन्ह बना है वहां पर चटका लगाने से वह आपको 'की-वर्ड और मॅटा टैग विवाद' की चिट्ठी पर ले जायगा। दूसरी जगह जहां ► चिन्ह बना है वहां चटका लगाने पर यह आपको 'समान डोमेन नाम विवाद नीति, साइबर और टाइपो स्कवैटिंग' की चिट्ठी पर ले जायगा।

    इस चिट्ठी में, मेरी भाषा स्पष्ट नहीं थी जिसके कारण आपको ऐसा लगा। मैंने भाषा स्पष्ट कर दी है। अब यह उलझन नहीं होनी चाहिये। यह कमी बताने के लिये धन्यवाद।

    ई-स्निप्स आपको ogg फॉरमैट पर फाइलें लोड करने देता है। बाकी सब mp3 फॉरमैट मांगते हैं। इसी लिये मैं इस पर करता हूं। यदि आपको कोई और वेबसाइट मालुम हो जो ogg फॉरमैट पर फाइल लोड करने की अनुमति देता हो तो बतायें।

    आजकल बहुत से लोग ई-स्निप्स पर फाइलों को रख रहें हैं वे सब mp3 फॉरमैट में रखते हैं क्या उनके साथ भी यह मुश्किल पड़ती है?

    ग्लोबल वायसिस एक महत्वपूर्ण जगह है। यह अंग्रेजी में चिट्ठा लिखने वालों को हिन्दी चिट्ठियों के बारे में बताती है। क्या करू यह मौका चला गया :-( अगली बार आपको जो अच्छा लगे वह डालियेगा।

    ReplyDelete
  3. इस चिट्ठी में, मेरी भाषा स्पष्ट नहीं थी जिसके कारण आपको ऐसा लगा। मैंने भाषा स्पष्ट कर दी है। अब यह उलझन नहीं होनी चाहिये। यह कमी बताने के लिये धन्यवाद।

    उनमुक्त जी, पहली बार पढ़ने में अभी भी पाठक को समझ न आएगा। मुझे तो आपने बता दिया इसलिए समझ आया। :)

    ई-स्निप्स आपको ogg फॉरमैट पर फाइलें लोड करने देता है। बाकी सब mp3 फॉरमैट मांगते हैं। इसी लिये मैं इस पर करता हूं। यदि आपको कोई और वेबसाइट मालुम हो जो ogg फॉरमैट पर फाइल लोड करने की अनुमति देता हो तो बतायें।

    आप ourmedia.org या archive.org का प्रयोग कर सकते हैं(ourmedia.org भी archive.org पर ही फाइल स्टोर करता है)। यहाँ आपको स्पेस और बैन्डविड्थ की कोई समस्या नहीं होगी और सब फोकटी मामला है। मैंने अपनी पॉडकास्ट के लिए archive.org का ही प्रयोग किया है, बस यह है कि आपको अपने आडियो के लिए एक creative commons लाइसेन्स चुनना अनिवार्य है ताकि उसको कोई भी प्रयोग कर सके, वैसे आप चाहें तो Attribution-Non Commercial-No Derivatives वाला भी चुन सकते हैं जिससे आपके आडियो पर कोई अपना कुछ न बना सके और उसको बेच न सके लेकिन श्रोतागण आराम से सुन सकें। :)

    बढ़िया बात यह है कि आप archive.org पर यदि MP3 अपलोड करते हैं तो यह अपने आप Ogg फाइल बना के उसको भी उपलब्ध करा देता है डाउनलोड के लिए। :)

    आजकल बहुत से लोग ई-स्निप्स पर फाइलों को रख रहें हैं वे सब mp3 फॉरमैट में रखते हैं क्या उनके साथ भी यह मुश्किल पड़ती है?

    मैंने अभी तक किसी फाइल को ईस्निप्स पर सुनने के लिए लॉगिन नहीं किया था। हो सकता है क्योंकि आपने सीधे डाउनलोड का लिंक दिया है तो उसके लिए लॉगिन अनिवार्य हो।

    ग्लोबल वायसिस एक महत्वपूर्ण जगह है। यह अंग्रेजी में चिट्ठा लिखने वालों को हिन्दी चिट्ठियों के बारे में बताती है। क्या करू यह मौका चला गया :-( अगली बार आपको जो अच्छा लगे वह डालियेगा।

    चिन्ता क्यों करते हैं, अगली पोस्ट(यदि इसी सप्ताह में लिखी) में आपकी इस पोस्ट का ज़िक्र हो जाएगा। :) मैं तो सीधे ही नारद खोल के बैठता हूँ और अच्छी पोस्टों को पकड़ उनके बारे में लिख देता हूँ। :)

    ReplyDelete

आपके विचारों का स्वागत है।