Wednesday, October 25, 2006

आप किस बात पर, सबसे ज्यादा झुंझलाते हैं

मुझे दो बातें हमेशा से पसन्द हैंं: आईसक्रीम और पुस्तकें।

किसी भी शहर में मेरे लिए समय व्यतीत करने का सबसे प्रिय तरीका: वहां के अच्छे रेस्तराँ में जाकर आईसक्रीम खाना और पुस्तकों की दूकानों पर समय बिताना। उम्र के चढ़ते चढ़ते, गले के नाजुक होने के कारण आईस क्रीम खाना बन्द हो गया। मेरे डाक्टर मित्र कहते हैं कि ठंडी चीज खाने से और गले की खराबी का कोई सं‍बन्ध नहीं है फिर भी मैंने कोई ठन्डी चीज खायी नहीं कि गला हुआ खराब। मालुम नहीं मेरे डाक्टर मित्र सही हैं या मेरा अनुभव, पर मैंने ठन्डी चीज खाना या पीना बन्द कर दिया है हालांकि पुस्तकों से प्रेम अब भी जारी है।

मुझे अक्सर काम के सिलसिले में दूसरे शहरों में जाना पड़ता है, इसमें हैदराबाद भी है। एक बार हैदराबाद जाने का मौका मिला तो वहां की पुस्तकों की दुकान जाने का कार्यक्रम बनाया। पूंछने पर पता चला कि वहां की सबसे अच्छी पुस्तक की दुकान वाल्डन, बेगम पेठ के इलाके में है। बस वहां पहुंच गया।

वाल्डन दुकान काफी बड़ी है किताबों का चयन अच्छा है पर किताबों की रैक बहुत पास-पास है थोड़ी घुटन सी लगी। यदि कुछ दूर दूर होती तो ज्यादा अच्छा रहता। दुकान में एक अंग्रेजी गाना 'सलोरी ...सलोरी' कहते हुये बज रहा था। कोने में एक संगीत और वीडियो कैसेट का भाग था। वहां हिन्दी का गाना ‘कभी अलविदा न कहना’ बज रहा था। दोनों का मिश्रण कुछ अजीब तरह का माहौल पैदा कर रहा था। संगीत इतनी जोरों से था जैसा कि डिस्को में अक्सर होता है। यह अक्सर किताबों की दुकानों के साथ होता है। किसी भी पुस्तक की दुकान पर जोर जोर से संगीत बजना, मुझे सबसे ज्यादा झुंझलाता है।

किताबों की दुकानें, पुस्तक प्रेमियों के द्वारा या उस व्यापारी वर्ग के द्वारा जो कि पुस्तक प्रेमियों की मनोवृत्ति को अच्छी तरह समझते थे, के द्वारा शुरू की गयीं थी पर अब उनकी जगह उनके नयी पीढियों ने जगह ले ली है। नयी पीढ़ी तो डिस्को सभ्यता में विश्वास करती है और पुस्तक की दुकान को भी उसी रंग में रंगना चाहते हैं। मैं हमेशा इस बात को उनके मैनेजर से कहता हूं, इस बात को उनकी शिकायत पुस्तिका में दर्ज करता हूं - मालुम नहीं असर होता है कि नहीं पर मैं शिकायत दर्ज करता चलता हूं।

मैंने वाल्डन में कुछ किताबें खरीदी और पैसे देते समय अपनी शिकायत दर्ज की। मेरे साथ एक बुजुर्ग भी कुछ खरीद रहे थे, वे मुस्कराये और सहमति जतायी। मालुम नहीं दुकान वाले की समझ में आया कि नहीं पर मुझे इतना लगा कि मेरी मनोवृति उस बुजुर्ग की तरह है।

खैर अगली बार वाल्डन जाऊंगा तो देखूंगा कि कुछ असर हुआ कि नहीं।

14 comments:

  1. कई जगहों पर संगीत सरदर्द बन जाता है, मुंबई की टैक्सी या तिपहिये पर बैठिये, झंकार बीट्स वाले गाने इस तरह धमा-धम फुल वाल्यूम पर बजाते हैं कि मन करता है कि पैदल ही निकल लो!

    अधिकतर रेस्तोरां में तो गाना ऐसा ज़ोर से बजता है कि बातें करने के लिये चिल्लाना पड़ता है।

    कभी कभी तो मन करता है कि उनके स्पीकर्स फोड़ गें तो चैन आये - कसम से!!

    ReplyDelete
  2. शायद दिल्ली में कोई किताब की दुकान है जहाँ आप कॉफी पीते किताबें ब्राउज़ कर सकते हैं । वहाँ जाना है कभी फुरसत से ।

    ReplyDelete
  3. प्रत्यक्षा जी
    कनौट प्लेस में Statesman House की पहली मंजिल पर में Oxford Bookstore है, शायद आप इसी की बात कर रहीं हैं। इसमें चाय शॉप है - तरह तरह की चाय मिलती हैं और स्नैकस् मिलते हैं। मैं दिल्ली रहता हूं तो यहां किताब खरिदने तो नहीं, पर चाय पीने जाता हूं और हर बार अलग तरह की। अभी तक करीबन दस तरह की चाय पी चुका हूं। इस दुकान पर किताबें एक खास वर्ग के लिये हैं और मैं उस वर्ग में नहीं हूं। दिल्ली में मेरे पसन्द की किताबों की दुकान कनौट प्लेस बुक वर्म के नाम से है। अलग अलग शहर में, मेरे पसन्द की किताबों की दुकान के बारे में मैंने यहां भी लिखा है। शायद आप कभी इन दोनो जगह जायें तो अन्तर ज्यादा अच्छा समझ में आये।

    ReplyDelete
  4. ये आपने अच्छी बताई
    लेकिन मं जिस जगह का जिक्र कर रही थी वो शायद दक्षिणी दिल्ली में है ।

    ReplyDelete
  5. ये आपने अच्छी बताई
    लेकिन मैं जिस जगह का जिक्र कर रही हूँ वो शायद दक्षिणी दिल्ली में है ।

    ReplyDelete
  6. जहाँ तक मुझे याद था, आपका यह ब्लॉग पुराने ब्लॉगर पर था. अब यह ब्लॉगर बीटा पर आ गया है. तो क्या आपको ब्लॉगर बीटा पर आने का निमंत्रण मिल गया ?

    बधाईयाँ!

    मैं तो इंतजार कर रहा हूं!

    ReplyDelete
  7. रवी जी
    जब मैंने आपकी तथा जीतेन्द्र जी की पोस्ट बीटा ब्लौगर के बारे में पढ़ी थी तभी अपना नाम बीटा ब्लौगर के लिये रजिस्टर करा लिया था। उसके कुछ दिनो बाद ही मुझे बीटा ब्लौगर पर आाने का निमंत्रण मिला गया था। इस पर पोस्ट करते मुझे इसके अग्रेगेटर के गुण का भी पता चला।

    ReplyDelete
  8. अपकी पसंद और ना पसंद की जानकारी देने के लिए धन्यवाद, इस से पता चलता है कि आप किस टाइप के हैं। वैसे मुझे किताबें पढने का शौक नही मगर कॉमिक्स और अखबार पढता हूं इसके अलावा पॉप म्यूज़िक बहुत पसंद है :)

    ReplyDelete
  9. मै शान्त माहौल वाली किताबों की दुकान ही पसंद करता हूँ, हल्का संगीत बिल्कुल मद्धम आवाज में हो, तोज रुर चल जाता है. :०

    ReplyDelete
  10. किताबों की दुकान मे शोर..मुझे याद नही आता कि भारत मे किसी ऐसी किताब की दुकान मे गया हूँ।

    मार्च मे मै पेरूजा (इटली) मे एक किताब की दुकान मे था, वहाँ बहुत सारे लोग थे..सब किताबें देख रहे थे, इतनी शान्ति और इतने लोग किसी दुकान पर मैने पहले कभी नही देखी।

    ReplyDelete
  11. शायद दिल्ली में कोई किताब की दुकान है जहाँ आप कॉफी पीते किताबें ब्राउज़ कर सकते हैं । वहाँ जाना है कभी फुरसत से ।

    इस तर्ज पर तो गाज़ियाबाद बॉर्डर के पास स्थित pacific mall में crossword का स्टोर भी है।

    लेकिन मं जिस जगह का जिक्र कर रही थी वो शायद दक्षिणी दिल्ली में है ।

    दक्षिण दिल्ली में तो मैं दो ही दुकानों के बारे में जानता हूँ, Bookmark और Teksons' और जहाँ तक मैं जानता हूँ दोनों में से कोई ऐसी नहीं है। पक्के तौर पर Bookmark के बारे में कह सकता हूँ क्योंकि अधिकतर उपन्यास आदि मैंने वहीं से खरीदे हैं, Teksons' में अभी तक गया नहीं इसलिए पूर्ण विश्वास के साथ नहीं कह सकता।

    ReplyDelete
  12. Teksons में, मैं गया हूं वहां भी इस तरह की सुविधा नहीं है।

    ReplyDelete
  13. आईसक्रीम!!! मुझे भी पसँद है! पढना तो बहुत कुछ चाहती थी, लेकिन क्या करती, खैर अब पढूँगी!

    ReplyDelete
  14. इस बार जब भी हैदराबाद आएं..हम आपको किताबों के कुछ और अड्डे बता देंगे :)

    ReplyDelete

आपके विचारों का स्वागत है।