Monday, April 02, 2007

डैनियल और मैक कंप्यूटर

हम गोवा में जिस होटेल में रुके थे वह समुद्र तट के बगल में है पर समुद्र तट होटेल वालों का नहीं है। फिर भी, होटेल वाले समुद्र तट को हमेशा साफ रखते हैं क्योंकि उनके यहां ८०% से अधिक लोग विदेशी हैं और वे इसी समुद्र तट के लिये इस होटेल में आते हैं। समुद्र तट की सफाई भी देखने काबिल थी। समुद्र पर अटखेलियां करती हुई लहरें , तट पर सुन्दर लोग, बेहतरीन नज़ारा और सबसे अच्छी बात, कोई टोकने वाला नहीं।

गोवा में मुझे एक प्रस्तुतीकरण भी देना था, यह समय आभाव के कारण पूरा नहीं हो पाया था। इसे पूरा करने के लिये, मैं सुबह ही लैपटॉप लेकर बाहर चला गया। मुझे वहां जर्मन इंजीनियर डैनियल मिला। वह यांत्रिक इंजीनियर है और गाड़ियों के ब्रेक बनाने वाली कम्पनी में काम करता है। उसके पास मैक कंप्यूटर था। वह विंडोस़ पर काम करता था और कुछ महीने पहले ही मैक पर काम करना शुरू किया है। उसके मुताबिक मैक सॉफ्टवेर बहुत अच्छा और सरल है। मैंने पूछा क्या विंडोस से भी। उसका जवाब था हां। उसके अनुसार जर्मनी में भी लोग चोरी की विंडोस़ प्रयोग करते हैं और यह लगभग ५०% है।

Guten Tag! Daniel,
It was pleasure to meet you. I hope you have tried OpenOffice.Org suit. Do try Firefox, Thunderbird, and Sunbird. They all are open source and great software. Some of Hindi bloggers will like to know more about Mac software. Please let us know more about the same and its support for languages other than English.
Tschüss! (I hope my German is correct) till we meet again.

डैनियल अपनी कंपनी की तरफ से अपने सहयोगी के साथ हिन्दुस्तान आये थे। वे लोग मीटिंग में पूना गये थे फिर गोवा में सम्मेलन में आये थे।

डैनियल को बहुत आशचर्य हुआ कि मेरा लैपटॉप लिनेक्स पर है। मैने उसे इसके बारे में और कुछ अन्य ओपेनसोर्स के सॉफ्टवेर के बारे में जानकारी दी। कुछ देर बाद जब हम फिर मिले तो उसने बताया कि वह ओपेन ऑफिस डाट ऑर्ग की वेबसाईट पर गया था और इसे डाउनलोड कर दिया है। वह इसका प्रयोग करेगा। होटेल में कमरे में तो लाईन से ब्रॉडबैंड था पर सार्वजनिक जगहों पर वाई फाई था। चलिये एक और व्यक्ति ओपेन सोर्स प्रयोग करने के लिये राजी हुआ।




अगली बार चर्च में मिलेंगे राधा कृष्ण से।

3 comments:

  1. sanjay bengani10:10 am

    आप तो मतांतर के मामले में मिशनरीयों को भी मात देने लगे है. :)

    बधाई.

    ReplyDelete
  2. उन्मुक्त = ौाओपन सोर्स ? :-)

    जान कर अति प्रसन्नता हुई कि आप भी लिनक्स का प्रयोग करते हैं । मैं अपने संगणक पर Slackware 11.0 लिनक्स चलाता हूँ । हिन्दी में लिखने-पढ़ने के लिए आप कौनसे software का प्रयोग करते हैं ? मैं हिंदी इनपुेट के लिए SCIM / SKIM का प्रयोग करता हूँ । हिंदी जालपृष्ठों को पढ़ने के लिए मैं काँकरर् जालपृष्ठ ब्राउज़र का प्रयोग करता हूँ । फ़ायरफाक्स २.x अभी परिपक्व नहीं है ।

    ReplyDelete
  3. आदित्य जी मुझे भी यह जान कर प्रसन्नता हुई कि आप भी लिनेक्स प्रयोग करते हैं। मैं आपके प्रोफाइल देखने के लिये गया तो लगता है कि आपने वह मना कर रखा है यदि आप चिट्ठा लिखते हों तो मुझे बतायें। मेरे समपर्क का पता यह है। मैं एक जगह रेड हैट और एक जगह फेडोरा-६ प्रयोग करता हूं। मैं फायर फॉक्स ही प्रयोग करता हूं।

    ReplyDelete

आपके विचारों का स्वागत है।