Wednesday, May 21, 2008

धूमकेतु या पुच्छल तारा क्या होते हैं

बाईबिल, खगोलशास्त्र, और विज्ञान कहानियां श्रंखला कि इस चिट्ठी में धूमकेतु या पुच्छल तारा की चर्चा है। यह क्या होते हैं और कैसे बनते हैं।

धूमकेतु या पुच्छल तारे (comets), चट्टान (Rock), धूल (Dust) और जमी हुई गैसों (gases) के बने होते हैं। सूर्य के समीप आने पर, गर्मी के कारण, जमी हुई गैसें और धूल के कण सूर्य से विपरीत दिशा में फैल जाते हैं और सूर्य की रोशनी परिवर्तित कर चमकने लगती हैं। इस समय इनकी आकृति को दो मुख्य भागों, सिर तथा पूँछ में बांट सकते हैं। सिर का केंद्र अति चमकीला होता है। यह इसका नाभिक (nucleus) कहलाता है। सूर्य की विपरीत दिशा में बर्फ और धूल का चमकीला हिस्सा पूँछ की तरह से लगता है। इसे कोमा (coma) कहा जाता है। यह हमेशा सूर्य से विपरीत दिशा में रहता है। धूमकेतु की इस पूँछ के कारण इसे पुच्छल तारा भी कहते हैं।

Comet West (C/1975 V1) का यह चित्र मार्च १९७६ में Munich Public Observatory में Peter Stättmayer के द्वारा लिया गया था और उन्हीं के सौजन्य से है।

Comet शब्द, ग्रीक शब्द komētēs से बना है जिसका अर्थ होता है hairy one बालों वाला



Comet शब्द, ग्रीक शब्द komētēs से बना है जिसका अर्थ होता है hairy one बालों वाला। यह इसी तरह दिखते हैं इसलिये यह नाम पड़ा।

सूर्य से दूर जाने पर धूल और बर्फ पुन: इसके नाभिक में जम जाती है। हर बार जब यह सूर्य के पास आता है तो कुछ न कुछ इनकी धूल और बर्फ बिखर जाती है जिसके कारण इनकी पूंछ छोटी होती जाती है और अक्सर यह पूंछ विहीन हो जाते हैं। यह धूमकेतु सूर्य के समीप आने पर भी पूँछ को प्रकट नहीं करते हैं। ऎसे धूमकेतुओं को पुच्छहीन धूमकेतु कहते हैं। इस समय यह छुद्र ग्रह, ग्रहिका (Asteroid) की तरह लगते हैं।


ह्याकुताके (Hyakutake) धूमकेतु का यह चित्र नासा के सौजन्य से है

पृथ्वी की तरह धूमकेतु सूरज के चारो और चक्कर लगाते हैं। इस तरह के कई धूमकेतु हैं पर सबसे प्रसिद्ध है हैली का धूमकेतु (Halley's comet)। कई लोग कहते हैं कि बेथलहम का तारा हैली का धूमकेतु था। इस श्रंखला की अगली कड़ी में इसी के बारे में चर्चा करेंगे।

बाईबिल, खगोलशास्त्र, और विज्ञान कहानियां
भूमिका।। प्रभू ईसा का जन्म बेथलेहम में क्यों हुआ?।। क्रिस्मस को बड़ा दिन क्यों कहा जाता है।। बेथलेहम का तारा क्या था।। बेथलेहम का तारा उल्कापिंड या ग्रहिका नहीं हो सकता।। पिंडों के पृथ्वी से टक्कर के कारण बने प्रसिद्ध गड्ढ़े।। विज्ञान कहानियां क्या होती हैं और उनका मूलभूत सिद्धान्त।। विज्ञान कहानियों पर पुरुस्कार।। उल्का, छुद्र ग्रह, पृथ्वी पर आधारित विज्ञान कहानियां और फिल्में।। धूमकेतु या पुच्छल तारा क्या होते हैं।।

हिन्दी में नवीनतम पॉडकास्ट Latest podcast in Hindi
(सुनने के लिये चिन्ह शीर्षक के बाद लगे चिन्ह ► पर चटका लगायें यह आपको इस फाइल के पेज पर ले जायगा। उसके बाद जहां Download और उसके बाद फाइल का नाम अंग्रेजी में लिखा है वहां चटका लगायें।: Click on the symbol ► after the heading. This will take you to the page where file is. Click where 'Download' and there after name of the file is written.)
  • अंतरजाल की माया नगरी की नवीनतम कड़ी: वेबसाइटों पर कॉपीराइट का उल्लंघन
  • पुस्तक समीक्षा: जेम्स वॉटसन की पुस्तक 'द डबल हेलिक्स'
यह ऑडियो फइलें ogg फॉरमैट में है। इस फॉरमैट की फाईलों को आप -
  • Windows पर कम से कम Audacity, MPlayer, VLC media player, एवं Winamp में;
  • Mac-OX पर कम से कम Audacity, Mplayer एवं VLC में; और
  • Linux पर सभी प्रोग्रामो में - सुन सकते हैं।
बताये गये चिन्ह पर चटका लगायें या फिर डाउनलोड कर ऊपर बताये प्रोग्राम में सुने या इन प्रोग्रामों मे से किसी एक को अपने कंप्यूटर में डिफॉल्ट में कर ले।

is post per dhoomketu ya puchchhal taare ke baare mein charchaa hai. ise aap roman ya kisee aur bhaarateey lipi me padh sakate hain. isake liye daahine taraf, oopar ke widget ko dekhen.

This post talks about Comets. It is in Hindi (Devnaagaree script). You can read it in Roman script or any other Indian regional script also – see the right hand widget for converting it in the other script.


सांकेतिक शब्द

Astronomy, Astronomy, bible, Bible, Star of Bethlehem, बेथलेहम का तारा
culture, Family, fiction, life, Life, Religion, जीवन शैली, धर्म, धर्म- अध्यात्म, विज्ञान, समाज, ज्ञान विज्ञान,

7 comments:

  1. मैंने हैली के धूमकेतु को देखा था -१९८५ में -यह ७५ वर्ष मे सूरज की परिक्रमा कर लेता है .पिछली बार यह अपेक्षा के विपरीत काफी धुंधला था ,मैंने यह देख कर इसके बारे में एक लेख लिखा जिसका शीर्षक था -दूज का चाँद बन गया हेली - ऐसे बहुत विरले हैं जिन्होंने अपने जीवन में इसे दो बार देखा हो -अब जब यह २०६० मे दिखेगा मैं इस जहाँ से रुखसत हो चुका रहूँगा [अब कौन चाहता है १०० वर्ष जीना !]बेथलेहम का तारा यही रहा होगा !

    ReplyDelete
  2. bahut hi gyanvardhak jankari,shukrana

    ReplyDelete
  3. धूमकेतु पर रोचक और सारगर्भित जानकारी है।
    यदि ईश्वर की दया से मैं 2060 तक जीवित रहा, तो इसके दर्शन लाभ अवश्य करूंगा।

    ReplyDelete
  4. हैली और कॉह्यूटेक कॉमेट देखने में मेस्मराइज करने वाले थे। अच्छा लगा यह पढ़ना।

    ReplyDelete
  5. रोचक जानकारी देने का शुक्रिया।
    अगली कड़ी का इंतजार रहेगा।

    ReplyDelete
  6. आभार इस रोचक जानकारी के साथ ज्ञानवर्धन करने का.

    ReplyDelete

आपके विचारों का स्वागत है।