Wednesday, July 16, 2008

जब रात हुई

बाईबिल, खगोलशास्त्र, और विज्ञान कहानियां श्रंखला कि इस चिट्ठी में 'Nightfall' नामक कहानी की समीक्षा है। इसे आप रोमन या किसी और भारतीय लिपि में पढ़ सकते हैं। इसके लिये दाहिने तरफ ऊपर के विज़िट को देखें।

इसे आप सुन भी सकते है। सुनने के लिये यहां चटका लगायें। यह ऑडियो फाइल ogg फॉरमैट में है। इस फॉरमैट की फाईलों को आप,
  • Windows पर कम से कम Audacity, MPlayer, VLC media player, एवं Winamp में;
  • Mac-OX पर कम से कम Audacity, Mplayer एवं VLC में; और
  • Linux पर सभी प्रोग्रामो में,
सुन सकते हैं। ऑडियो फाइल पर चटका लगायें फिर या तो डाउनलोड कर ऊपर बताये प्रोग्राम में सुने या इन प्रोग्रामों मे से किसी एक को अपने कंप्यूटर में डिफॉल्ट में कर ले। डाउनलोड करने के लिये पेज पर पहुंच कर जहां Download फिर अंग्रेजी में फाइल का नाम लिखा है, वहां चटका लगायें।


एमरसन (Ralpho Waldo Emerson) ने कहा है,
'If the stars should appear one night in a thousand years, how would would men believe and adore, and preserve for many generation the remembrance of the city of God'
यदि हजार साल में एक बार तारे दिखायी पड़ें, तो भगवान के इस अदभुत दृश्य को लोग कैसे विश्वास करेगें, किस तरह से याद रखेगें।
'जब रात हुई' (Nightfall) (नाइटफॉल) कहानी, इसी उद्घरण से प्रेरित है।


यह कहानी, सूर्य ग्रहण पर आधारित कहानी है और ग्रहण पर आधारित सबसे प्रसिद्व कहानी है । इस कहानी को आइसेक एसीमोव (Issac Asimov) ने १९४१ जब वे केवल २१ साल के थे, तब लिखा था।


१९६८ में, अमेरिका के विज्ञान कहानी लेखकों ने इस कहानी को नेब्युला पुरूस्कार (Nebula Award) आने के पहले (१९६५) लिखी गयी विज्ञान कहानियों में सर्वश्रेष्ठ कहानी माना। १९९० में एसीमोव ने रॉबर्ट सिलवरबर्ग (Robert Silverberg) के साथ इस कहानी को बढ़ा कर उपन्यास का रूप दिया।


इसकी कहानी कुछ इस प्रकार की है कि पृथ्वी से दूर ब्रम्हाण्ड में, स्थित एक तारों के समूह में छ: सूर्य है। इसलिये उसके ग्रह में कभी रात नहीं होती है। इस कारण वहां के लोग रात के तारे नहीं देख पाते हैं। वहां के लोगों का इस बात का सबूत मिलता है कि उस ग्रह की सभ्यता कई बार नष्ट हो चुकी है। वे इसका कारण जानने का प्रयत्न करते हैं।

एक खगोलशास्त्री यह पता लगाता है कि हजारों साल में एक बार ऎसा होता है कि छ: सूर्यों में एक साथ ग्रहण लगता है और रात हो जाती है। वह अगली बार सूर्य ग्रहण का समय भी बाताता है, जो कि नज़दीक है और लोगों को आगाह करता है पर उसकी बात पर कोई विश्वास नहीं करता है। कहानी का अन्त कुछ इस प्रकार होता है कि ग्रहण लगना शुरू हो रहा है, तारे दिखायी पड़ने लग रहे हैं और लोग ... अब यह जानने के लिये तो आपको इस कहानी को पढ़ना पड़ेगा।


अंग्रेजी में, इस कहानी को आप यहां सुन सकते हैं।

यह कहानी सबसे पहले ' एस्टाउंडिगं स्टोरीस्' (Astounding stories) में 1941 प्रकाशित हुई। इस पत्रिका का अब नाम Analog Science Fiction and Fact हो गया है। मैंने इस कहानी को Nightfall One नामक पुस्तक (Granda Publishing Limited) में पढ़ी थी। इस पुस्तक में एसीमोव की पांच कहानियां हैं। इसके बाद, इसी प्रकाशक ने, Nightfall two नामक पुस्तक भी प्रकाशित की। इसमें एसीमोव की अन्य पंद्रह विज्ञान कहानियां हैं। मुझे यह कहानियां कुछ डरावनी सी लगीं, कुछ निराश भी पर इसका अर्थ यह नहीं कि यह पढ़ने योग्य नहीं हैं। आपने नहीं पढ़ी हैं तो जरूर पढ़ें, अपने मुन्ने मन्नी को पढ़ने के लिये भेंट करें - शायद वे कल हमारे रमन, हमारे आइंस्टाईन बने।



इसके पहले हम लोग चर्चा करें कि क्या बेथलेहम का तारा किसी प्रकार का तारा था - हम लोग बात करें तारों के बारे में - मैं हिन्दी जगत के जाने माने चिट्ठाकार के उस सवाल का जवाब देना चाहूंगा जो उसने एक अन्य प्रसिद्ध हिन्दी चिट्टाकार की चिट्ठी पर पूछा था। वह चिट्टाकार कौन है, क्या सवाल था, वह किस चिट्ठाकार की चिट्ठी पर पूछा गया - यह सब सिक्किम यात्रा की अगली कड़ी में।
'उन्मुक्त जी, इस श्रंखला का सिक्किम यात्रा से क्या संबन्ध?'
कुछ तो, इंतजार कीजिये - जो मज़ा इंतजार में, वह और कहां।



बाईबिल, खगोलशास्त्र, और विज्ञान कहानियां
भूमिका।। प्रभू ईसा का जन्म बेथलेहम में क्यों हुआ?।। क्रिस्मस को बड़ा दिन क्यों कहा जाता है।। बेथलेहम का तारा क्या था।। बेथलेहम का तारा उल्कापिंड या ग्रहिका नहीं हो सकता।। पिंडों के पृथ्वी से टक्कर के कारण बने प्रसिद्ध गड्ढ़े।। विज्ञान कहानियां क्या होती हैं और उनका मूलभूत सिद्धान्त।। विज्ञान कहानियों पर पुरुस्कार।। उल्का, छुद्र ग्रह, पृथ्वी पर आधारित विज्ञान कहानियां और फिल्में।। धूमकेतु या पुच्छल तारा क्या होते हैं।। हैली धूमकेतु।। पुच्छल तारों पर लिखी विज्ञान कहानियां।। बेथलेहम का तारा - ग्रह पास आ गये थे।। ग्रहण पर आधारित कहानियां।। जब रात हुई।।


हिन्दी में नवीनतम पॉडकास्ट Latest podcast in Hindi
(सुनने के लिये चिन्ह शीर्षक के बाद लगे चिन्ह ► पर चटका लगायें यह आपको इस फाइल के पेज पर ले जायगा। उसके बाद जहां Download और उसके बाद फाइल का नाम अंग्रेजी में लिखा है वहां चटका लगायें।: Click on the symbol ► after the heading. This will take you to the page where file is. Click where 'Download' and there after name of the file is written.)
यह ऑडियो फइलें ogg फॉरमैट में है। इस फॉरमैट की फाईलों को आप -
  • Windows पर कम से कम Audacity, MPlayer, VLC media player, एवं Winamp में;
  • Mac-OX पर कम से कम Audacity, Mplayer एवं VLC में; और
  • Linux पर सभी प्रोग्रामो में - सुन सकते हैं।
बताये गये चिन्ह पर चटका लगायें या फिर डाउनलोड कर ऊपर बताये प्रोग्राम में सुने या इन प्रोग्रामों मे से किसी एक को अपने कंप्यूटर में डिफॉल्ट में कर ले।



grahn is vaigyanik tthya and din evam samy phle se btaayaa ja sktaa hai. is post per nightfall khaanee, jo ki surya grahn per likhee sabse prasidh khaani hai kee charchaa hai. yeh hindi (devnagree) mein hai. ise aap roman ya kisee aur bhaarateey lipi me padh sakate hain. isake liye daahine taraf, oopar ke widget ko dekhen.

Eclipse is scientific fact and can be predicted beforehand. This post is review of the story Nightfall, the most famous story based on sun eclipse. It is in Hindi (Devnaagaree script). You can read it in Roman script or any other Indian regional script also – see the right hand widget for converting it in the other script.



सांकेतिक शब्द
book, book, books, Books, books, book review, book review, book review, Hindi, kitaab, pustak, Review, Reviews, किताबखाना, किताबखाना, किताबनामा, किताबमाला, किताब कोना, किताबी कोना, किताबी दुनिया, किताबें, किताबें, पुस्तक, पुस्तक चर्चा, पुस्तकमाला, पुस्तक समीक्षा, समीक्षा,
Astronomy, Astronomy, bible, Bible, culture, Family, fiction, life, Life, Religion, science fiction, Star of Bethlehem, बेथलेहम का तारा, जीवन शैली, धर्म, धर्म- अध्यात्म, विज्ञान, विज्ञान कहानी, समाज, ज्ञान विज्ञान,

3 comments:

  1. Aabhar is samiksha ke liye.

    ReplyDelete
  2. पहले तो आपको बधाई कि आपके इस समर्पित प्रयास की अनुगूंज महत्वपूर्ण अंगरेजी चिट्ठों तक पहुँच रही है .
    आज ही मेरे एक मित्र और युवा विज्ञान कथाकार जीशान ने निम्न ब्लागपोस्ट पर आपको उधृत हुआ दिखाया -
    http://variety-sf.blogspot.com/2008/07/for-indian-readers-hindi-audio-of.html
    बहुत खुशी हुयी -आपका विज्ञान कथाओं का अध्ययन विषद है और इस साहित्य की श्रीवृद्धि में आपका योगदान उल्लेखनीय ....हम समानधर्मा हैं -यह संयोग बहुत विरला होता है - विज्ञान कथा की अलख हिन्दी चिट्ठाजगत पर जगाये रखें -
    नाईट फाल आजिमोव की ३२ वीं कहानी है .एक दूसरे तारामंडल में लोग सदियों बाद सूर्यग्रहण के पशात तारों के उदय को जब विस्मय विस्फारित नेत्रों से देखते हैं तो एक अजब भाव पाठकों में कौंधता है ;
    इस समीक्षा के लिए शुक्रिया !

    ReplyDelete
  3. नाईटफाल का बेहतरीन भावानुवाद है -जब रात हुयी .बधाई !

    ReplyDelete

आपके विचारों का स्वागत है।