Friday, July 25, 2014

पर्यावरण एवं प्रदूषण - भूले हुए उपचार

इस चिट्ठी में, पर्यावरण एवं प्रदूषण के  बारे में, न्यायालयों में लिये जा सकने वाले कुछ भूले हुए उपचारों की चर्चा है।

Thursday, July 24, 2014

पर्यावरण, प्रदूषण, वन, वन्य जीवों एवं जैव विविधता - अधिनियम एवं समबन्ध

इस चिट्ठी में, संसद के द्वारा पर्यावरण, प्रदूषण, वन, वन्य जीवों एवं जैव विविधता पर बनाये गये अधिनियमों में समबन्धों की चर्चा है।

Tuesday, July 22, 2014

पर्यावरण एवं वन्य जीवों पर अधिनियम

इस चिट्ठी में, संसद के द्वारा पर्यावरण, प्रदूषण तथा वन, वन्य जीवों एवं जैव विविधता पर बनाये गये अधिनियमों की चर्चा है।

Sunday, July 20, 2014

पर्यावरण, न्यायालय और सिद्धान्त

इस चिट्ठी में, पर्यावरण न्यायालयों के द्वारा प्रतिपादित सिद्धान्तों की चर्चा है।


इस प्रकार उच्चतम न्यायालय ने उपरोक्त मुकदमों में, निम्न सिद्धान्त स्थापित किए हैं:

  1. विकास टिकाऊ होना चाहिए;
  2. एहतियाति सिद्धान्त अपनाना चाहिए;
  3. नुकसान की भरपाई, प्रदूषक के द्वारा होना चाहिए;
  4. राज्य, प्राकृतिक संसाधनों को, जनता के लिए लाती है। इसका उपयोग जनहित के लिये होना चाहिये;
  5. वन, वृक्ष, जैव विविधता की रक्षा करना चाहिए;
  6. जोखिम भरे उद्यमों में, पूर्ण दायित्व का नियम लागू होता है।
अगली बार इस बारे में संसद के द्वारा बनाये अधिनियमों की चर्चा करेंगें।

हरित पथ ही राजपथ है     
भूमिका।। विश्व पर्यावरण दिवस ५ जून को क्यों मनाया जाता है।। टिकाऊ विकास और जनहित याचिकाएं क्या होती हैं।। एहतियाती सिद्घांत की मुख्य बातें क्या होती हैं - वेल्लौर केस।। नुकसान की भरपाई, प्रदूषक पर - एन्वायरो एक्शन केस।। राज्य प्राकृतिक संसाधनों का संरक्षणकर्ता है।। वन, वृक्ष, और जैव विविधता का संरक्षण - आवश्यक।। जोखिम गतिविधि - पीड़ित मुआवजा का अधिकारी।। पर्यावरण, न्यायालय और सिद्धान्त।।


About this post in Hindi-Roman and English
This post, in Hindi (Devanagari script) talks about the principles established by the courts. You can read it in Roman script or any other Indian regional script as well – see the right hand widget for converting it in the other script. 

hindi (devnaagree) kee is chitthi mein  nayalayon ke dvara sthapit sidhanton kee charchaa hai. ise aap roman ya kisee aur bhaarateey lipi me padh sakate hain. isake liye daahine taraf, oopar ke widget ko dekhen.

Wednesday, June 25, 2014

जोखिम गतिविधि - पीड़ित मुआवजा का अधिकारी


इस चिट्ठी में, सर्वोच्च न्यायालय के द्वारा निर्णीत किया गया एम.सी. मेहता विरुद्घ भारत संघ ए.आई.आर. १९८७ एस.सी. १०८६ (ओलियम गैस लीकेज़ केस) तथा उसमें प्रतिपादित सिद्धान्त की चर्चा है।

Saturday, March 08, 2014

वन, वृक्ष, और जैव विविधता का संरक्षण - आवश्यक

इस चिट्ठी में, सर्वोच्च न्यायालय के द्वारा निर्णीत किया गया टी.एन.गोदावर्मन थिरूमुल्कड विरुद्ध भारत संघ १९९७ (२) SCC २६७ (गोदावर्मन केस) तथा उसमें प्रतिपादित सिद्धान्त की चर्चा है।

Saturday, February 15, 2014

राज्य प्राकृतिक संसाधनों का संरक्षणकर्ता है

इस चिट्ठी में, सर्वोच्च न्यायालय के द्वारा निर्णीत किया गया मेसर्स एम.सी.मेहता विरुद्ध कमलनाथ १९९७ (१) एस.सी.सी. ३८८ (कमलनाथ केस) तथा उसमें प्रतिपादित सिद्धान्त की चर्चा है।
सुन्दर हिमाचल - प्राकृतिक संसाध का प्रयोग केवल जनहित के लिये

Saturday, February 08, 2014

नुकसान की भरपाई, प्रदूषक पर - एन्वायरो एक्शन केस

इस चिट्ठी में, सर्वोच्च न्यायालय के द्वारा निर्णीत किया गया 'इंडियन कांउसिल फार एन्वायरो एक्शन बनाम भारत सरकार' ए.आई.आर. १९९६ एस.सी. १४४७ (एन्वायरो एक्शन केस) तथा उसमें प्रतिपादित सिद्धान्त की चर्चा है।

उन्नीसवी शताब्दी में रसायनिक उद्योग - चित्र विकिपीडिया से

Saturday, February 01, 2014

ताले, महाभारत एवं गणित

यह चिट्ठी, वी.रघुनाथन के द्वारा लिखी पुस्तक लॉक्स्, महाभारत एण्ड मैथमेटिक्स: एन एक्सप्लोरेशन ऑफ अनएक्सपेक्टेड पैरेलेल्स् की समीक्षा है।  


Saturday, January 25, 2014

एहतियाती सिद्घांत की मुख्य बातें क्या होती हैं - वेल्लौर केस


इस चिट्ठी में, सर्वोच्च न्यायालय के द्वारा निर्णीत किया गया 'वेल्लौर सिटीजन वेल्फेयर फोरम बनाम भारत संघ', ए.आई.आर. १९९६ एस.सी. २७१५ (वेल्लौर केस) तथा उसमें प्रतिपादित सिद्धान्त की चर्चा है।
उन्नीसवीं शताब्दी में चमड़ा बनाने वाले कारखाने का एक चित्र विकिपीडिया से